श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ – sri lanka kab swatantra hua

हैलो दोस्तो कैसे हो आप सब लोग , में आशा करता हूं कि आप सभी लोग कुशल होंगे । आज के इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ – sri lanka kab swatantra hua और श्री लंका के इतिहास के बारे में विस्तार से बताएंगे । अगर आप को भी श्री लंका के बारे में जानना है तो इस आर्टिकल को य पड़े ।

दोस्तो आज के इस आर्टिकल में हम श्री लंका के बारे में जानेंगे । आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ – sri lanka kab swatantra hua , श्री लंका को स्वतंत्र कराने में श्री लंका के किन नेतावो ने अहम भूमिका निभाई , और साथ – ही – साथ श्री लंका के बारे में भी सामान्य जानकारी जानेंगे । अगर आप को भी इन विषयों पर जानकारी प्राप्त करनी है तो इस आर्टिकल को पूरा पड़े । तो चलिए करते हैं आज का आर्टिकल स्टार्ट –

श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ

श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ – sri lanka kab swatantra hua

दोस्तो जैसा कि बताया जाता है कि लगभग सभी देश किसी ना किसी देश के गुलाम रहे हैं । हर देश पर किसी और देश का शासन था । और हर देश को उस दूसरे देश से स्वतंत्र होने के लिए आजादी कि लड़ाई लड़नी पड़ी थी , तभी जाके उनके देश दूसरे देश से स्वतंत्र हुए थे । हर देश में एक ना एक महान क्रांतिकारी हुआ है जीनोन अपने देश कि आजादी कि सुरावत कि और आपने देश को आजादी दिलाई है । जिनोन अपने देश कि जनता को एक सूत्र में बांधने का काम किया , जीनोने देश कि जनता को आजादी का सपना दिखाया ।

कुछ इसी तरह श्री लंका पर भी अंग्रजों का शासन काल था । बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भ में हैं श्री लंका के लोगो में आजादी के लिए धीरे – धीरे आग जलना प्रारम्भ हो गई थी । श्री लंका के शिक्षित वर्ग के व्यक्तियों ने आगे जाके लोगो को आजादी के प्रति जागरूक किया , और इन्हे अंग्रजों का बहिष्कार करने के लिए एकत्रित किया । श्री लंका कि आजादी कि लड़ाई को शांतिपूर्वक राजनीतक लड़ाई के नाम से जाना जाता हैं । श्री लंका कि आजादी कि लड़ाई का जिमा शिक्षित वर्ग के व्यक्तियों द्वारा उठाया गया था , इसलिए उन्होंने सिर्फ अंग्रजों का बहिष्कार किया उन्होंने अंग्रजों के खिलाफ युद्ध नहीं किया ।

जैसे – जैसे श्री लंका कि आजादी के लिए लड़ाई मजबूत होती जा रही थी वैसे ही अंग्रजी शासन कमजोर पड़ता जा रहा था । फिर आया द्रतिय विश्व युद्ध , इस युद्ध ने अंग्रजों का पूरा ध्यान अपनी तरफ खींच लिया ओर वो युद्ध में ज्यादा ध्यान देने लगे , और वही दूसरी तरफ श्री लंका कि लड़ाई आपनी पूरे आक्रोश पर आ गई ओर श्री लंका के लोगो ने खुल के अंग्रेजी सरकार का सामना किया । क्यों कि अभी श्री लंका का पूरा ध्यान सिर्फ युद्ध पर था ओर वो लंका कि तरफ कम ध्यान दे रहे थे ।

Read Also : वह देश जिसके द्वारा सैन्य अंतरिक्ष बल स्थापित करने की घोषणा की गई ?

जिसके फस्वरूप दृतिय विश्व युद्ध के समाप्त होते – होते श्री लंका कि आजादी कि लड़ाई काफी मजबूत हो गई थी । और आब श्री लंका के लोगो मे पूरी तरह ईस्ट इंडिया कंपनी यानी अंग्रजी शासन के खिलाफ आक्रोश भर चुका था , जिसके फस्वरूप अंग्रजी शासन ने श्री लंका को 4 जनवरी 1948 में एक डोमिनियन राष्ट्र के रूप में स्वतंत्रता दे दी । इसके अगले 24 वर्षो तक श्री लंका एक डोमिनियन राष्ट्र बन के रहा , उसके पश्चात आगे चलकर सन् 22 मई , 1972 को श्री लंका को एक गणतंत्र देश घोषित कर दिया गया ।

श्री लंका के बारे में सामान्य जानकारी –

अब हम श्री लंका के बारे में सामान्य जानकारी जानेंगे । क्या आप को पता है श्री लंका का नाम श्री लंका नहीं बल्कि सीलोन था , जिसका आगे चलकर सन् 1972 में बदलकर लंका कर दी गई था , वरना इससे पहले इसको सीलोन के नाम से ही जाना जाता था । इसके अलावा और आगे चलकर इसके नाम में और बदलाव किया गया और सन् 1978 में इसके आगे एक समान सूचक शब्द ” श्री ” जोड़ा गया जिसके बाद इसको श्री लंका के नाम से जाना जाने लगा ।

श्री लंका कि राजधानी श्री जयवर्धनेपूरा कोटा हैं । श्री लंका के वर्तमान राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे हैं । और वर्तमान प्रधानमंत्री महिन्द राजपक्ष हैं । श्री लंका का सबसे बड़ा शहर कोलम्बो है । श्री लंका का राष्ट्रगान ” श्री लंका माता ” हैं । भारत के दक्षिण में स्थित इस देश कि लंबाई भारत से सिर्फ 32 किलो मीटर है । इसी कारण प्राचीन काल में भारत के कई राजाओं ने श्री लंका पर आक्रमण किया । तीसरी सदी पूर्व भारत के महान राजा अशोक के पुत्र महेंद्र ने श्री लंका में बौद्ध धर्म का प्रचार – प्रसार किया , और श्री लंका में बौद्ध धर्म कि स्थापना कि थी ।

निष्कर्ष –

आज के इस आर्टिकल में हमने श्री लंका के बारे में बताया हैं । हमने आज के इस आर्टिकल में बताया हैं कि श्री लंका कब स्वतंत्र हुआ – sri lanka kab swatantra hua था । श्री लंका को स्वतंत्र कनवाने में किस वर्ग ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी । इसके अलावा हमने इस आर्टिकल में हमने श्री लंका के बारे में सामान्य जानकारी के बारे में भी बताया हैं ।

जिस प्रकार लगभग सभी देश कभी – ना – कभी किसी – ना – किसी देश के गुलाम थे , यानी किसी और देश का शासन था उस देश पर , ठीक इसी प्रकार श्री लंका पर भी अंग्रजों का शासन था । श्री लंका ने शांति पूर्वक राजनेतिक तरीके से लड़ाई लड़ी और अपने देश को आजादी दिलाई थी । इसलिए इस आंदोलन को शांतिपूर्वक राजनीतक आन्दोलन के नाम से भी जाना जाता हैं । इसके अलावा हमने इस आर्टिकल में श्री लंका के बारे में कुछ सामान्य जानकारी भी बताई है । जो हर देश के बारे में हमको पता होना चाहिए ।

तो दोस्तों अगर आपको ये इनफार्मेशन ाची लगी है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करे और इस आर्टिकल को लाइक करे अछि रेटिंग दे तथा निचे कमेंट बॉक्स में क्यूमेंट करे और बताये आपको ये इनफार्मेशन कैसी लगी,तो मिलते अगले ऐसे हे महत्वपुर्ण informative आर्टिकल के साथ तब तक के लिए… धन्यवाद् !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.