व्याकरण के कितने भाग होते हैं – vyakaran ke kitne bhag hote hain|Hindi gk-2021

हैलो दोस्तों कैसे है आप सब लोग में आसा करता हूं कि आप सब लोग कुशल होंगे । आज का यह आर्टिकल व्याकरण के ऊपर होने जा रहा है । आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि व्याकरण किसे कहते हैं ? और व्याकरण के कितने भाग होते हैं vyakaran ke kitne bhag hote hain । इन सब के बारे में विस्तार से जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पड़े ।

आज का यह आर्टिकल व्याकरण के ऊपर होने जा रहा हैं । आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि व्याकरण किसे कहते हैं ? तथा साथ – ही – साथ यह भी बताएंगे कि व्याकरण के भाग कितने होते हैं । अगर आप भी इन विषय के ऊपर जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पड़े । तो चलिए करते हैं आज के आर्टिकल को स्टार्ट –

व्याकरण के कितने भाग होते हैं

व्याकरण किसे कहते हैं –

हिंदी को जानने के लिए सबसे पहले व्याकरण को जानना जरूरी है । बिना व्याकरण के हिंदी का कोई अस्तित्व नहीं रहता है दूसरे शब्दों में कहें तो व्याकरण में ही हिंदी है । व्याकरण समझने के लिए पहले इसकी परिभाषा को समझना पड़ता है । लेकिन व्याकरण कि कई सारी अलग – अलग परिभाषाएं है लिकन आज हम जो परिभाषा बताने जा रहे है उसे सबसे आसान परिभाषा माना जाता है इसके अलावा इस परिभाषा को सबसे सटीक परिभाषा भी माना जाता हैं ।

परिभाषा –

वह विद्या जिसमे माध्यम से किसी भाषा को शुद्ध रूप में पड़ते , लिखते एवं समझते है उसे व्याकरण कहते हैं ।

अगर इस परिभाषा को और सरल शब्दो में समझे तो व्याकरण उस ज्ञान को कहते है जिसे देखकर हमे शब्दो के होने का ज्ञात होता है । जिससे हमे पता चलता है कि इस शब्द का क्या अर्थ निकल रहा है , और हम उस शब्द को आसानी से समझ सकते हैं । इस परिभाषा को पड़ने से यह स्पष्ट हो रहा है कि व्याकरण का अर्थ क्या होता है और व्याकरण किसे कहते हैं । व्याकरण के भागो को समझने के लिए इस परिभाषा को समझना अनिवार्य है ।

व्याकरण के कितने भाग होते हैं – vyakaran ke kitne bhag hote hain –

जैसे कि हिंदी को जानने के लिए व्याकरण को जानना जरूरी है , कुछ इसी तरह व्याकरण को जानने के लिए व्याकरण के भागो को जानना जरूरी है । बिना व्याकरण के भागो को जाने व्याकरण को नहीं समझ सकते है । अतः व्याकरण के भागो को समझना अनिवार्य है । व्याकरण के भागो कि परिभाषा के माध्यम से आप व्याकरण के साथ – साथ हिंदी भाषा को समझने में भी आसानी होती हैं ।

Read Also : टाइफाइड में दूध पीना चाहिए ? – typhoid Mein doodh Peena chahie|Must Read

अब हम जानेंगे कि व्याकरण के कितने भाग होते हैं । भारतीय हिंदी साहित्य के व्याकरण को कितने भागो में विभाजित किया गया हैं ? अब हम व्यकरण के भागो के नाम व उनकी परिभाषा के बारे में विस्तार से जानेंगे । जिससे कि आपको व्याकरण के बारे में विस्तार से पता चले कि व्यकरांट के कितने भाग होते है ओर किस भाग कि क्या विशेषता है , किस भाग के अंदर क्या आता हैं । तो अगर आप को भी व्याकरण के भागो के बारे में विस्तार से जानना है तो इस आर्टिकल को पूरा पड़े ।

व्याकरण के भाग –

व्याकरण के तीन भाग होते हैं –

  1. वर्ण विचार
  2. शब्द विचार
  3. वाक्य विचार ।
  1. वर्ण विचार हिंदी व्याकरण का पहला भाग है । इसमें भाषा कि मूल इकाई ध्वनि / वर्ण पर विचार किया जाता हैं । वर्ण विचार हिंदी व्याकरण कि सबसे छोटी इकाई है इसमें शब्दो को तोड़ा नहीं जा सकता । उदाहरण के लिए – क , ख , म , अ आदि । इसमें 52 वर्ण होते हैं ।
  2. शब्द विचार हिंदी व्याकरण का दूसरा भाग है । दो या दो से अधिक वर्णों के मेल से बना ऐसा शब्द जिसका कोई अर्थ निकलता है शब्द विचार कहलाता हैं । उदाहरण – स्कूल , लड़का , लड़की आदि ।
  3. वाक्य विचार हिंदी व्याकरण का तीसरा भाग हैं । दो या दो से अधिक शब्दो के मेल से बना ऐसा सार्थक समूह जिसको बढ़ने से वक्ता को किसी बात कि पूरी जानकारी प्राप्त होती है उसे वाक्य विचार कहते हैं । उदाहरण – राम स्कूल जा रहा हैं , राधा गाना गा रही हैं आदि ।
Read Also : गोपियों के अनुसार राजा का धर्म क्या होना चाहिए ? – gopiyon ke anusar raja ka dharm kya hona chahie

ऊपर बताई गई परिभाषाओं को पढ़कर आप व्यकारण को आसानी से समझ सकते है । हमने इसमें व्याकरण के भागो के बारे में जानकारी दी तथा व्यकरणा के भागो कि परिभाषा भी दी इसके अलावा उदाहरण देके भी बताया हैआप इन को पड़के व्याकरण के बारे में विस्तार से जान सकते हैं । हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है इसको बोलने में शर्म नहीं करनी चाहिए । अब तो हिंदी का प्रचलन विश्व भर में चल रहा हैं । तो हमको कभी भी अपनी मात्र भाषा बोलने में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए ।

निष्कर्ष –

आज के इस आर्टिकल में हमने व्याकरण के बारे में बताया है । हमने इस में बताया है कि व्याकरण किसे कहते हैं । इसके अलावा व्याकरण के कितने भाग होते हैं – इस बारे में भी बताया है । इसके अलावा हमने व्याकरण के भागो के बारे में भी विस्तार से बताया हैं । अगर आप भी व्याकरण के बारे में जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को पढ़के जानकारी ले सकते हैं ।

हिंदी भाषा सीखने के लिए व्याकरण बहुत जरूरी है । बिना व्याकरण के हिंदी नहीं सीख सकते हैं । इस कारण हमने आज इस आर्टिकल में व्याकरण के बारे में बताया हैं । हिंदी साहित्य को कई भागो में बाटा गया हैं आप उन को भी पड़कर हिंदी भाषा का ज्ञान हासिल कर सकते है । आज पूरे विश्व में हिंदी प्रसिद्ध हो रही है । दुनिया के कई देशों में अब हिंदी का प्रचलन चल रहा है । अब हिंदी बोलने वालो को कमजोर नहीं समझा जाता है । अब हिंदी बोलने वालो का मजाक नहीं उड़ाया जाता हैं । हिंदी को अब दुनिया भर में मनियता मिलती हैं ।

तो दोस्तों अगर आपको ये इनफार्मेशन अच्छी लगी है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों में शेयर करे और इस आर्टिकल को लाइक करे अछि रेटिंग दे तथा निचे कमेंट बॉक्स में क्यूमेंट करे और बताये आपको ये इनफार्मेशन कैसी लगी,तो मिलते अगले ऐसे हे महत्वपुर्ण informative आर्टिकल के साथ तब तक के लिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.